रात के खाने मे न खाएं रोटी-सब्जी


Related image

क्या आप भी रात के खाने में ज्यादातर रोटी-सब्जी ही खाते हैं? उत्तर भारत के ज्यादातर घरों में रात के खाने में रोटी-सब्जी ही खाया जाता है। वैसे तो सब्जियां सेहत के लिए अच्छी होती हैं और रोटी भी फाइबर से भरपूर होती हैं। मगर हेल्थ-एक्सपर्ट्स मानते हैं कि डिनर यानी रात के खाने में रोटी-सब्जी खाना आपके और आपके परिवार की सेहत के लिए अच्छा नहीं है, खासकर गेंहूं की रोटियां। इससे न सिर्फ आपका मोटापा बढ़ता है, बल्कि अपच, कब्ज और डायबिटीज का खतरा भी बढ़ जाता है। सवाल ये उठता है कि डिनर में रोटी-सब्जी क्यों नहीं खाना चाहिए और कौन सा खाना है रात के लिए बेस्ट?
क्यों रोटी-सब्जी नहीं है हेल्दी?
डायटीशियन निधि साहनी बताती हैं, "हम लोग ज्यादातर रात के खाने में रोटी-सब्जी या दाल-रोटी खाते हैं। इनमें कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा ज्यादा होती है, इसलिए इन्हें पचाना मुश्किल होता है।" ज्यादातर लोग रात के खाने के बाद थोड़ा-बहुत काम करते हैं और फिर सोने चले जाते हैं। ऐसे में हाई कार्ब्स वाले आहारों को पचने का समय नहीं मिलता है, जिससे ये अनपचे ही रह जाते हैं। लंबे समय तक ऐसे आहार अनपचा खाना आपको कई बीमारियों का शिकार बनाता है, जिसमें मोटापा और डायबिटीज सबसे गंभीर बीमारियां हैं।
कैसा होना चाहिए रात का खाना?
चूंकि रात के समय सोने के बाद हमारे शरीर का मेटाबॉलिज्म दिन की अपेक्षा धीमा हो जाता है, जिसके कारण पाचनतंत्र उतनी अच्छी तरह काम नहीं कर पाता है, जितनी अच्छी तरह वो सुबह करता है। ऐसे में एक्सपर्ट निधि साहनी बताती हैं कि आपके रात का खाना हल्का और सुपाच्य होना चाहिए, जिसे पेट आसानी से पचा सके। इसके लिए आप कॉम्प्लेक्स कार्ब्स वाले आहार खाएं। कॉम्प्लेक्स कार्ब्स ऐसे आहार हैं, जो बहुत धीरे-धीरे पचते हैं। इसलिए शरीर को इन्हें पचाने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती है। स्लो मेटाबॉलिज्म के दौरान भी आपका पेट इन कॉम्प्लेक्स कार्ब्स को धीरे-धीरे पचाता रहता है और शरीर को भोजन में मौजूद सभी पोषक तत्व भी मिल जाते हैं।

रोटी और चावल एक साथ नहीं खाने चाहिए ये बात शायद आप नहीं जानती होंगे। ज्यादातर लोग ये गलती अकसर करते हैं। कुछ लोग जानकर भी खुद को ऐसा करने से रोक नहीं पाते तो कुछ लोग अनजाने में ये करते हैं लेकिन वो ये नहीं जानते कि रोटी और चावल को एक साथ खाने से कितना नुकसान होता है। इससे धीरे-धीरे पेट का कैंसर बनता है।चावल और रोटी दोनों एक साथ खाने की वजह से पाचन कमजोर होता है. शरीर में फैट एकत्र होना शुरू होता है जो बाद में मोटापा का कारण बनता है. अगर आप भी अभी तक चावल और रोटी दोनों एक साथ खाते हैं तो इसे आज से ही बंद कर दें.
चावल की तुलना में रोटी पचने में आसान है. अगर आप रात में रोटी खाते हैं तो वह आसानी से पचती है. अगर आप रात में चावल खाते हैं तो आपको ठीक से नींद भी नहीं आती है. ठीक से नींद न आना और पाचन में परेशानी बाद में मोटापे का कारण बनता है.
रात के समय क्या खाएं खाने में?
रात का खाना हल्का होना चाहिए इसलिए शाकाहारी लोग रात में उबली हुई सब्जियां, ग्रिल्ड सब्जियां, सूप, सलाद आदि खा सकते हैं। इसके अलावा अगर आपको ज्यादा भूख लगती है, तो आप थोड़े से मोटे अनाज जैसे- दलिया, ओट्स आदि खा सकते हैं। अगर आप नॉनवेजिटेरियन हैं, तो आप रात के खाने में ग्रिल्ड चिकन या मछली खा सकते हैं। आमतौर पर लोगों को लगता है कि चिकन हैवी फूड है। मगर प्रोटीन से भरपूर चिकन को अगर ग्रिल करके बनाएं, तो इसमें कैलोरीज की मात्रा ज्यादा नहीं होती है। रात के समय आप आराम से ग्रिल्ड चिकन या ग्रिल्ड फिश खा सकते हैं।
चावल खाने से कई लोगों का पेट फूल जाता है। Water retention की परेशानी वाले लोगों को तो बिल्कुल भी चावल नहीं खाने चाहिए। इसे खाने से आप unhealthy महसूस करते हैं। और ये पचने में भी ज्यादा समय लगाते हैं।
कई लोगों को चावल से एलर्जी होती है। डायबिटीज के मरीज़ों को चावल नहीं खाने चाहिए। अस्थमा की बीमारी वाले लोगों को भी चावल avoid करने चाहिए ये ठंडे होते हैं जिसकी वजह से सांस लेने में भी तकलीफ होती है।रात के खाने में इन बातों का भी रखें ध्यान
रात का खाना हमेशा सोने से 2-3 घंटे पहले खा लें।
किसी भी स्थिति में रात के 9 तक खाना जरूर खा लें।
खाने के बाद 5 मिनट आराम करें और फिर कम से कम 15-20 मिनट पैदल जरूर टहलें।
खाने के दौरान या खाने के 1 घंटे बाद तक पानी न पिएं। अगर खाना तीखा है, तो आप 1-2 घूंट पानी पी सकते हैं।
खाने के कम से कम 2-3 घंटे बाद तक आपको नहाना नहीं चाहिए।


सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार



किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 




कोई टिप्पणी नहीं: