लहसुन और शहद घरेलू एण्टीबायोटिक//Garlic and honey domestic antibiotic


                                                 

    लहसुन और शहद का इस्‍तेमाल हर घर में किया जाता है और इनके फायदों से भी हम सभी वाकिफ है। शहद अपने एंटी-बायेटिक और एंटी-बैक्‍टीरियल गुणों और लहसुन में एलिसिन और फाइबर की मौजूदगी के कारण हमें कई तरह के पोषक तत्‍व प्रदान करता है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि अगर इन दोनों को एक साथ मिला दिया जाये तो यह और भी फायदेमंद हो जाता है।
     शहद में डूबे हुए लहसुन के सेवन से आप कई बीमारियों से भी बच जाते हैं। यह एक प्रकार का सूपर फूड है जो एंटीबायोटिक की तरह काम करता है और शरीर को डिटॉक्स करके हर तरह के इंफेक्शन को भी खत्म करता है। साथ ही इम्यून सिस्टम को भी मजबूत करता हैं। अगर आप लगातार 7 दिन शहद में डूबा हुआ लहसुन का सेवन करेगें, तो कुछ ही दिनों में असर दिखने लगेगा। आइए इसे बनाने की विधि और इसका सेवन करने के फायदों के बारें में।
बनाने का तरीका

2-3 बड़ी लहसुन की कली लेकर उसे हल्का सा दबा कर कूट लें।
फिर उसमें शुद्ध शहद मिलाये।
इसे कुछ देर के लिये ऐसे ही रहने दें ताकी लहसुन में पूरा शहद समा जाए।
फिर इसे सुबह खाली पेट 7 दिनों तक खाएं।
    इन दोनों चीजों को मिलाकर खाने से कोलेस्ट्रॉल कम होता है और शरीर का ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है।
अगर आपका इसका सेवन करते है तो आपका इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत होगा। जिसके कारण आपको कभी कोई बीमारी नहीं हो पाएगी।
    यह एक प्राकृतिक डिटॉक्स है। इसको खाने से शरीर की अंदर से सफाई हो जाती है। जिसके कारण आप सेहतमंद रहते है।
इनमें मौजूद फस्फोरस से दांत मजबूत रहते है। यह दांतों से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने का काम करता है।
    लहसुन और शहद में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स कैंसर के मरीज के लिए बेहतर है। इससे कैंसर का खतरा कम होता है। तो देर किस बात कि बीमारियों से बचने के लिए आज बनाये और ट्राई करें।




आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचा


किडनी फेल (गुर्दे खराब) रोग की अनुपम औषधि 


एक टिप्पणी भेजें