26.1.18

सिर्फ एंजियोप्लास्टी नहीं ,हृदय रोग का यह भी है अचूक उपचार // Not only angioplasty, it is also the treatment of heart disease.



     


    वैसे तो अर्जुन की छाल अनेकों बिमारियों जैसे कि रक्त की शुद्धि, रक्त के थक्के बनने से रोकना, कोलेस्ट्रॉल कम करने में आदि में प्रयोग की जाती है लेकिन हृदय रोगियों के लिए यह किसी वरदान से कम नहीं है. यह किसी भी तरह के हृदय रोग जैसेकि हृदय की शिथिलता, तेज़ धड़कन, सूजन या हृदय बढ़ जाने पर, हृदय की पीड़ा, घबराहट होना आदि में अत्यंत लाभकारी है. इसलिए अगर आपको हृदय सम्बन्धी कोई भी दिक्कत है तो इसका प्रयोग जरूर करें.

हृदय रोग के लिए अर्जुन की छाल का प्रयोग कैसे करें 

     *सबसे पहले ताजा अर्जुन की छाल को छाया में सुखाकर उसका चूरण बना लें. अब देसी गाय का दूध लगभग 300 ग्राम लेकर इसमें 300 ग्राम पानी डालें. अब इसमें एक चम्मच अर्जुन की छाल का चूरण डालकर गैस पर उबाल लें. आप इसमें थोड़ी सी मिश्री भी डाल सकते हैं और यह मिक्सचर आधा रह जाने पर इसे उतारकर छान लें और थोडा ठंडा होने पर पि जाएँ. ऐसा करने से सम्पूर्ण ह्रदय रोग नष्ट होगें और हार्ट अटैक से बचाव होगा. ऐसा आपको हर रोज सुबह शौच जाने के बाद खाली पेट करना है. और शुरु में यह लगातार एक महीने तक पीना है. एक महीने के बाद हर महीने शुरु के 3-5 दिनों तक पियें ताकि आगे कभी कोई दिक्कत ना आये. 
अर्जुन की छाल के लाभ -
    अर्जुन की छाल से नसें मजबूत बनती हैं और रक्त का प्रवाह अच्छा बनता है. अर्जुन की छाल का नियमित रूप से प्रयोग करने पर खून के थक्के नहीं जमते. अर्जुन की छाल में मिश्री मिलाकर  लेने से , घबराहट और अनियमित धड़कन से छुटकारा मिलता है. अगर हार्ट-अटैक आ गया हो तो अर्जुन की छाल को गाय के दूध में काढ़ा बनाकर सुबह-शाम सेवन करें. अर्जुन की छाल का चूरण बनाकर रख लें और जब भी दिल की धड़कन बढ़ने लगे तो इस चूरण को मुह में डालकर चूसने से दिल की धड़कन तुरंत ही सामान्य हो जाएगी. अर्जुन की छल के चूरण, गाय के घी और पीसी हुई मिश्री का मिक्सचर रेगुलर लेने से दिल मजबूत बनता है और हार्ट-अटैक का खतरा नहीं रहता.
    *हृदय की सभी समस्याओ के लिए एक वरदान । क्या आपकी धमनियों में खून के धक्के जमे हुए हैं या इनमे प्लाक जमा हुआ हैं। ब्लड प्रेशर बढ़ा रहता है, बैड कोलेस्ट्रॉल बढ़ा हुआ रहता है या किन्ही कारणवश डॉक्टर ने आपको ANGIOPLASTY के लिए कह दिया हैं। या कैसी भी गंभीर समस्या हैं। तो एक बार ये ज़रूर आज़माये।
   *  अर्जुन की छाल 100 ग्राम ले कर 500 मिली पानी में पकाये 200 मिली रहने पर उतार ले और हर रोज़ सुबह शाम 10-10 मिली ले। इस से खून में बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रोल कम हो जायेगा, खून के थक्के साफ़ हो जायेंगे, ब्लड प्रेशर सही हो जायेगा और ANGIOPLASTY की नौबत नहीं आएगी। अर्जुन के सेवन से अलसर में भी आशातीत लाभ होता हैं।
   


*इस काढ़े को और असरदार बनाने के लिए इसमें 10 ग्राम दालचीनी मिला मिला कर काढ़ा बनायें।
अर्जुन की चाय भी बना कर पी जा सकती हैं। साधारण चाय की जगह अर्जुन की कुटी हुई छाल डालिये। और चाय की तरह बना कर पीजिये। अगर आपको अर्जुन के पेड़ न मिले तो अर्जुन छाल आपको रामदेव की दुकानो से मिल जाएगी ये 100 ग्राम करीब 15 रुपये की आती है|
   *अनेको हृदय रोगियों को इस से राहत मिली हैं।  अर्जुन 
लकवा के मरीजों को भी देते हैं जिस से उनको बहुत लाभ होता हैं।
*Varicose veins में भी ये बहुत उपयोगी हैं, अलसर के रोगियों के लिए भी ये बहुत लाभदायक हैं।


एक टिप्पणी भेजें