Sunday, July 9, 2017

ठंडे पानी से नहाने के फ़ायदे// Benefits of bathing with cold water





    डॉक्टरों के अनुसार हमें सर्दियों में भी गर्म पानी से नहीं नहाना चाहिए। हाँ, सर्दी में हमें रोज नहाना चाहिए। ठण्डे पानी से और वह भी जल्दबाजी में नहीं। यह जरूरी नहीं कि पानी बर्फीला ठण्डा हो। सामान्य नल के पानी से नहाया जा सकता है। हम देखते हैं कि हमारे अनेक मेले तथा पवित्र स्नान पर्व सर्दियों में ही पड़ते है। शुरू में तो हम में से अधिकतर लोगों को ठण्डे पानी से नहाने का नाम लेने से ही कँपकँपी महसूस होने लगेगी लेकिन यदि हम ठण्डे पानी से नहाना शुरू करें तो शीघ्र ही ठण्डे पानी से लगने वाला भय दूर हो जाएगा।
स्नान विधि – 
ठण्डे पानी से स्नान करने का आसान तरीका यह है कि पहले सिर पर पानी डालें। नदियों में स्नान करते हुए लोग पहले अपने सिर को पानी में डुबोते हैं, अक्सर आपने ऐसा देखा होगा। ठण्डे पानी से नहाते समय पहले सिर को गीला करने से सिर की गर्मी सारे शरीर में से होती हुई पैरों से निकल जाती है लेकिन पहले पैर और लातें भिगोने से या शरीर का निचला भाग भिगोने से शरीर की गर्मी सिर से निकलती है। स्वास्थ्य की दृष्टि से ऐसा नहीं होने देना चाहिए।
    नहाने में जल्दबाजी भी नहीं करनी चाहिए। अपनी हथेलियों से अपने शरीर में विभिन्न अंगों को रगड़ना चाहिए। इस प्रकार स्नाना का पूरा लाभ उठाना चाहिए। शरीर के विभिन्न अंगों को रगड़ने से हमारे शरीर में स्थित छिद्रों में गतिशीलता आती है और वे खुलते हैं। इन छिद्रों से काफी मात्रा में पसीना और अन्य मैल बाहर निकलता है। अपने हाथों से शरीर को रगड़ने के बाद साफ सूखे तौलिये से शरीर को रगड़ें। तौलिए से बदन पौंछने का मतलब केवल यही नहीं है कि हम अपने शरीर से पानी पौंछे बल्कि तौलिए से त्वचा को अच्छी तरह से रगड़ना भी है।
ठण्डे पानी से स्नान करने के फौरन बाद हमें गर्म कपड़े पहन लेने चाहिए क्योंकि ठण्डे पानी
से स्नान के बाद हमारा शरीर गर्म हो जाता है, ऐसे में ठण्डी हवा का झोंका हमारे शरीर को नुकसान दे सकता है।



लाभ –

ठण्डे पानी से नहाने में हमें अनेक लाभ हैं जो गर्म पानी से नहाने में हमें प्राप्त नहीं हो पाते। गर्म पानी से नहाने से पूर्ण रूप से संतुष्टि नहीं होती और गर्म पानी समाप्त होते ही कँपकँपी शुरू हो जाती है। इसके अतिरिक्त नियमित रूप से गर्म पानी से नहाने से हमारी ऊपरी त्वचा पर रक्त का संचालन कम हो जाता है। गर्म पानी से नहाने से हमारे शरीर की बाहरी त्वचा की ऊपरी सतह तक रक्त का संचालन ठीक प्रकार से नहीं हो पाता। इसके अतिरिक्त बाहरी त्वचा के समीप हमारे शरीर की रक्त कोशिकायें भी कमजोर पड़ जाती है। जबकि ठण्डे पानी से स्नान करने से वे मजबूत होती है। जब हमारे शरीर की बाहरी त्वचा ठण्डे पानी के सम्पर्क में आती है तो हमारी त्वचा सिकुड़ती है। इस प्रकार तापक्रम के अंत के कारण त्वचा के संकुचित होने से इसके आराम मिलता है और इससे त्वचा की मालिश होने जैसा प्रभाव उत्पन्न होता है। कभी-कभी गुनगुनें पानी में स्नान कर लेना ठीक रहता है लेकिन इसकी नियमित आदत नहीं बना लेनी चाहिए।
नहाने के लिए जब हम ठण्डे पानी का प्रयोग करते हैं तो हमारे शरीर में रक्त का संचालन तेजी से होने लगता है। यह हम नहाते हुए महसूस भी कर सकते हैं मजेदार बात तो यह है कि जब ठण्डे पानी से नहाते हैं तो हमारा शरीर एक प्रकार की भीतरी गर्भी महसूस करता है। ऐसा हमारे शरीर में रक्त संचार तेजी से होने के कारण होता है।
जो लोग ठण्डे पानी से नहाते हैं उन्हें बुत कम ही बीमार होते देखा गया है। ठण्डे पानी से नहाने से आदमी बीमार नहीं होता। हाँ, ठण्डे पानी से स्नान करना उस व्यक्ति के लिए हानिकारक हो सकता है जो कि पहले से ही बीमार चल रहा हो। जो लोग सर्दियों में नियमित रूप से नदी में या ठण्डे पानी से स्नान करते हैं वे लोग अन्य लोगों के मुकाबले अधिक हष्ट पुष्ट पाए जाते है|
पुरुष प्रजनन क्षमता
शायद बहुत ही कम लोग इस तथ्य को जानते होंगे कि, ठंडे से पानी से स्नान करना पुरुषों में प्रजनन क्षमता को बढ़ा सकता है। वहीं दूसरी ओर गर्म पानी से स्नान करने से अंडकोष पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है, क्योंकि संभवतः गर्म पानी से नहाना शुक्राणुओं की संख्या कम कर सकता है। यदि आप घर में नए बच्चे को लाने की तैयारी कर रहे हैं तो ठंडे पानी से ही नहाएं
मूड को करे फ्रेश

सुबह को ठंडे पानी से नहाने से आलस तो दूर होता ही है, आप पूरे दिन तरो-ताजा भी महसूस करते हैं। एक शोध में ये बात सामने आई है कि ठंडे पानी से नहाने से मूड फ्रेश रहता है। दरअसल जब आप ठंडे पानी से नहाते हैं, तो हल्का सा शॉक जैसा लगा है जिससे आपकी सांसे तेज़ चलने लगती है और दिल की धड़कन भी थोड़ी बढ़ जाती हैं। इससे आपके शरीर कार रक्त प्रवाह बढ़ जाता है और आप तरोताज़ा महसूस करने लगते हैं।
* . ठंडे पानी के साथ नहाने से हमे अच्छी और गहरी नींद आती हैं ।* व्ययाम करने के बाद अगर हम ठंडे पानी के साथ नहाते हैं तो हम पूरा दिन तरोताजा रहते हैं।


* अगर आप के चेहरें पर पीपल्स होते हैं तो आप ठंडे पानी के साथ नहायें। कुछ ही दिनों में आप को फर्क लगने लगेगा और आप के चेहरे पर निखार आने लगेगा ।

* ठंडे पानी के साथ नहाने से हमारा मोटापा कम होता है।
*. ठंडे पानी दिमाग को ठंडा रखता हैं ।डे पानी के साथ नहाने से हमारा शरीर चुस्त रहता है।
* ठंडे पानी के साथ नहाने से आलस नहीं पड़ता। जिससे हम अपना काम तेज़ी से कर सकते हैं ।
* जब भी आप ठंडे पानी के साथ नहाते हो तो आप कि सांस तेज चलने लगती है जिसके साथ आप कि धड़कन भी तेज हो जाती हैं यही कारण है कि हमारे खून का रक्त संचार तेजी से काम करता हैं। इससे कई बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है।
* ठंडे पानी के साथ नहाने से रक्त साफ़ होता है जिससे आप के चेहरे पर निखार बना रहता हैं ।
* ठंडे पानी के साथ बाल साफ़ करने से बाल काले और घने होते हैं ।
*ठंडे पानी के साथ नहाने से खुजली और जलन दूर होती हैं ।अगर कही जलन हो तो ठंडे पानी का इस्तेमाल करना चाहिए ।
इम्युनिटी और रक्तसंचार होता है बेहतर
ठंडे पानी से नहाने से रक्तसंचार तो अच्छा रहता ही है, साथ ही ठंडे पानी से आपकी इम्युनिटी अर्थात प्रतिरक्षा प्रणाली भी मजबूत होती है। इम्युनिटी के मज़बूत होने से शरीर में वाइट ब्लड सेल्स बढ़ती हैं जो कई प्रकार की बिमारियों से लड़ने में मदद करती हैं।



मोटापा करे कम

हमारे शरीर में दो तरह का फैट होता है, पहला वाइट फैट जो शरीर के लिए बुरा होता है और दूसरा होता है ब्राउन फैट जो शरीर के लिए अच्छा होता है। वाइट फैट वह फैट है जिसे हम अपने भोजन में खाते हैं, यह हमारे शरीर के कई हिस्सों में जमा हो जाता है। विशषज्ञों के मुताबिक जब हम बहुत ज्यादा ठंडे पानी से नहाते हैं तो हमारी कैलोरी बर्न होने लगती है और हम व जन कम कर पाते हैं।
ठंडे पानी के साथ नहाने के नुकसान
ठंडे पानी के साथ नहाने से अगर हमें कई तरह के फायदे मिलते हैं तो हमें कई तरह के नुकसान भी होते है जो कुछ इस तरह से हैं।
1. जब आप बीमार होते हो और आप ठंडे पानी के साथ नहा लेते हो तो आप का बुख़ार और तेज हो सकता है।
2. जुकाम होने पर अगर आप ठंडे पानी के साथ नहाते हो तो आप का जुकाम जाम हो सकता है।
3. सर्दियों के दिनों में अगर हम ठंडे पानी के साथ अपने बाल साफ़ करते है तो वो अच्छे से साफ़ नहीं होते जिसके कारण बाल कमज़ोर होने लगते हैं और काफी मात्रा में बाल झड़ जाते हैं।
4. सर्दियों में अगर हम बच्चों को ठंडे पानी के साथ नहलाते हैं तो वो बीमार हो जाते हैं। इसलिए बच्चों को सर्दियों में गुनगुना पानी करके नहलाना चाहिए।
5. बार बार ठंडे पानी के साथ नहाने से बच्चें बीमार हो सकते हैं। उन्हें सर्दी – जुकाम भी हो सकता हैं।
   इस पोस्ट में दी गयी जानकारी आपको अच्छी और लाभकारी लगी हो तो कृपया लाईक,कमेन्ट और शेयर जरूर कीजियेगा । आपके एक शेयर से किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँच सकती है और हमको भी आपके लिये और अच्छे लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है|










Post a Comment

Featured Post

किडनी फेल,गुर्दे खराब रोग की जानकारी और उपचार :: Kidney failure, information and treatment

किडनी कैसे काम करती है? किडनी एक बेहद स्पेशियलाइज्ड अंग है. इसकी रचना में लगभग तीस तरह की विभिन्न कोशिकाएं लगती हैं. यह बेहद ही पतली...