Monday, April 24, 2017

अंडकोष प्रदाह/Orchitis Homeopathic remedies



   चोट लग जाने, सूजाक आदि के कारण अण्डकोष की थैली की त्वचा फूल जाती है और उनमें दर्द, जलन, सूजन आदि लक्षण रहते हैं । इसी स्थिति को अण्डकोष-प्रदाह कहते हैं । यहाँ पर हाइड्रोसिल का भ्रम नहीं होना चाहिये
*एपिस मेल 30- दर्द, जलन, सूजन, लालिमा, डंक मारने जैसा दर्द इन लक्षणों में लाभ करती है ।
*क्रोटन टिग 30- अण्डकोष-प्रदाह के साथ-साथ उन पर एक्जिमा जैसे दाने निकल आयें, खारिश हो, खुजलाने की इच्छा हो पर खुजलाने से कष्ट बढ़े, दर्द से नोंद न आती हो- इन लक्षणों में दें ।
*ग्रेफाइटिस 30- खाजयुक्त तर दाने निकल आयें जिनसे गाढ़ा मवाद भी आता हो तो लाभ करती है ।
*आर्सेनिक एल्ब 30– दर्द में सेंकने से आराम मिले, रोगी व्याकुल हो, प्यास लगे- इन लक्षणों में देनी चाहिये ।
*एसिड फॉस 30– कमजोरी, अत्यधिक विलासिता का इतिहास हो, प्रदाह भी हो- इन लक्षणों में लाभप्रद रहती है








Post a Comment

Featured Post

किडनी फेल,गुर्दे खराब रोग की जानकारी और उपचार :: Kidney failure, information and treatment

किडनी कैसे काम करती है? किडनी एक बेहद स्पेशियलाइज्ड अंग है. इसकी रचना में लगभग तीस तरह की विभिन्न कोशिकाएं लगती हैं. यह बेहद ही पतली...